Follow us on Google News Click here

भारत के प्रमुख कथक प्रतिपादक और पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित पंडित बिरजू महाराज का निधन हो गया

हाल ही में, भारत के प्रमुख कथक प्रतिपादक और पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित पंडित बिरजू महाराज का निधन हो गया है।

पंडित बिरजू महाराज का जन्म

उनका जन्म 4 फरवरी 1938 को कथक पुनरुत्थानवादी ईश्वरी प्रसादजी के परिवार में हुआ था।

पंडित बिरजू महाराज का मूल नाम:

प्रारंभ में उनका नाम 'दुख हरण' था, जिसे बाद में बदलकर 'ब्रजमोहन' कर दिया गया, जो कृष्ण का पर्यायवाची है। बृजमोहन नाथ मिश्रा को तब छोटा करके 'बिरजू' कर दिया गया था।

पंडित बिरजू महाराज का प्रारंभिक आयु कैरियर:

अपने करियर के शुरुआती दौर में, पं बिरजू महाराज को भारत सरकार द्वारा विभिन्न त्योहारों में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए भेजा गया था। उन्होंने रूस, अमेरिका, जापान, यूके, यूएई, फ्रांस, जर्मनी, इटली, ऑस्ट्रिया और चेक गणराज्य सहित अन्य देशों का दौरा किया।

पंडित बिरजू महाराज का घराना:

वे लखनऊ की कथक शैली के कालका-बिंदादीन घराने के पथ प्रदर्शक थे।

पंडित बिरजू महाराज को मिले पुरस्कार:

उन्हें 28 साल की छोटी उम्र में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने कालिदास सम्मान, नृत्य चूड़ामणि, आंध्र रत्न, नृत्य विलास, आधारशिला शिखर सम्मान, सोवियत भूमि नेहरू पुरस्कार, शिरोमणि सम्मान और राजीव गांधी शांति पुरस्कार के अलावा विभिन्न पुरस्कार प्राप्त किए हैं।

Post a Comment

Thanks for Commenting. Your comment will be published shortly.
All rights reserved @National GK Owned by National GK